भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

अंजन

वि.
काला, सुरमई।
रवि-ससि-ज्योति जगत परिपूरन, हरति तिमिर रजनी। उड़त फूल उड़गन नभ अंतर, अंजन घटा घनी-२-२८।

अंजनि

स्त्री.

संज्ञा
[सं. अंजनी]
हनुमान की माता अंजना जो कुंजर नामक बानर की पुत्री और केशरी की स्त्री थी।

अंजल

पुं.

संज्ञा
[सं. अन्न + जल]
अन्नजल।

अंजलि,  अंजली

स्त्री.

संज्ञा
[सं.]
दोनों हथेलियों को मिलाकर बनाया गया संपुट, अंजुली।

अंजलि.  अंजली

स्त्री.

संज्ञा
[सं.]
अजुली में भरा हुआ जल आदि द्रव अथवा अन्य वस्तु।
प्यारी स्याम अंजली डारै। वा छबि कौ चित लाइ निहारै। मनो जलद-जल डारत ढरै-१८४४।

अँजवाना

क्रि. स.
[सं. अंजन]
अंजन या सुरमा लगवाना।

अँजाइ

क्रि. स.
[हिं. अंजन, अँजाना]
अंजन, सुरमा या काजल लगवाकर।
दोऊ अलबेले बने जु आए आँखि अँजाइ–२४४२।

अँजाय

क्रि. स.
[हिं. अंजन]
काजल या सुरमा लगवाकर।
आपुन हँसत पीत-पट मुख दै आए हो आँख अँजाय-२४४६ (३)।

अंजुरी

स्त्री.

संज्ञा
[सं. अंजली]
दोनों हथेलियों को मिलाकर बनाया हुआ संपुट।

अंजुलि

स्त्री.

संज्ञा
[सं. अंजली]
हथेलियों को मिलाने से बना हुआ संपुट।
सिर पर मीच, नीच नहिं  चितवत, आयु घटति ज्यौं अजुलि पानी—१-१४९।

अँजोर

पुं.

संज्ञा
[सं. उज्ज्वल, हिं. उजाला, उजेरा]
उजाला, प्रकाश, चाँदनी

अँजोरना

क्रि. स.
[हिं. अँजुरी]
छीनना, हरना, लेना, मूसना।

अँजोरना

क्रि. स.
[सं. उज्ज्वल]
जलाना, प्रकाशित करना।

अँजोरा

पुं.

संज्ञा
[सं. उज्ज्वल]
प्रकाश।

अँजोरि

क्रि. स.
[हिं. अँजुरी, अँजोरना]
छीनकर, हरण करके, मूसकर।
(क) सूरदास ठगि रही ग्वालिनी, मन हरि लियौ अँजोरि–१०:२७०।
(ख) मारग तौ कोउ चलन न पावत, धावत गोरस लेत अँजोरि–१०.३२७।
(ग) सूर स्याम चितवत गए मो तन, तन मन लियौ अंजोर-६७०।

अँजोरी

स्त्री.

संज्ञा
[हिं. अँजोर + ई]
प्रकाश,चमक।

अँजोरी

स्त्री.

संज्ञा
[हिं. अँजोर + ई]
चाँदनी।

अँजोरी

स्त्री.

वि.
उजेली, प्रकाशमयी, उज्ज्वल।

अँटकाए

क्रि. स.
[हिं. अटकाना]
फँसाए या उलझाए (हुए)।
मनि आभरन डार डारनि प्रति, देखत छबि मनहीं अँटकाए—७८४।

अँटकावत

क्रि. स.
[हिं. अटकाना]
रुकता है, बाधक होता है।
भीतर तैं बाहर लों आवत। घरआँगन अति चलत सुगम भए, देहरि अंटकावत १०-१२५।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App