भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

अँगिरा, अंगिरा

पुं.

संज्ञा
[सं. अंगिरस]
एक प्राचीन ऋषि जिनकी गणना दस प्रजापतियों में है और जो अथर्ववेद के कर्ता माने जाते हैं। उनके पिता का नाम उरु और माता का आग्नेयी था। इनकी चार स्त्रियां थीं-स्मृति, स्वधा, सती और श्रद्धा। इनकी कन्या का नाम ऋचस् और पुत्र का मनस् था।

अंगीकार

पुं.

संज्ञा
[सं.]
स्वीकार, ग्रहण।

अँगुठा

पुं.

संज्ञा
[सं. अंगुष्ठ, प्रा अंगुट्‍ठ, हि अँगूठा]
अंगूठा।
कर गहे चरन अँगूठा चचो रैं -१०-६२।

अँगुर

पुं.

संज्ञा
[सं. अगुल]
एक नाप जो आठ जौ के पेट की लंबाई के बराबर होती है।
अंगुर द्वै धटि होति सबनि सौ पुनि पुनि और मँगायौ—१०-३४२।

अँगुर

पुं.

संज्ञा
[सं. अगुल]
एक अंगुली की मोटाई भर की नाप।

अंगुरिनि

स्त्री.
बहु.

संज्ञा
[सं. अँगुरी, हिं. उँगली]
उंगलियों में।
अंग अभुषन अँगुरिनि गोल—-१०-९४।

अँगुरियनि

स्त्री.
बहु.
सवि.

संज्ञा
[हिं. उँगली]
उंगलियों से।
दुहत अँगुरियनि भाव बतायौ–६६७।

अंगुरिया

स्त्री.

संज्ञा
[सं. अँगुरी-अल्प.]
छोटी उंगली
गहे अँगुरिया ललन की, नँद चलन सिखावत—- १०-१२२।

अँगुरी

स्त्री.

संज्ञा
[सं. अँगुरी]
उंगली।
चौथ मास कर-अँगुरी सोई-३-१३।

अँगुरीनि

स्त्री.
बहु.

संज्ञा
[सं. अँगुली]
उँगली, उँगलियों (को) (से)।
मैं तौ जे हरे हैं, ते तौ सोबत परे हैं, ये करे हैं कौनैं आन, अँगुरीनि दंत दै रह्यौ – १०-४५४

अँगुरीनि

मुहा.
अँगुरीनि दंत दै रह्यौ :- चकित हुआ, अचंभे में आ गया।

अँगुसा

पुं.

संज्ञा
[सं. अंकुश = टेढ़ी नोक]
अंकुर, अँखुआ, गाभ।

अँगुसा

पुं.

संज्ञा
[सं. अंकुश = टेढ़ी नोक]
अँगुसी।

अँगूठी

स्त्री.

संज्ञा
[हिं. अँगूठा + ई]
उँगली में पहनने का छल्ला, मुँदरी, मुद्रिका।

अंगूर

पुं.

संज्ञा
[सं. अंकुर]
अंकुर

अंगूर

पुं.

संज्ञा
[सं. अंकुर]
अँखुवा।

अंगूर

पुं.

संज्ञा
[सं. अंकुर]
एक फल जिसको सुखा कर किशमिश या दाख बनती है।

अँगेजना

क्रि. स.
[सं. अंग = शरीर+एज = हिलना, कँपना]
सहन करना।

अँगेजना

क्रि. स.
[सं. अंग = शरीर+एज = हिलना, कँपना]
स्वीकार करना, अपनाना।

अँगेरना

क्रि. स.
[सं. अंग + ईर = जाना]
अंगीकार करना।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App