भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

निमि

पुं.

राजा इक्ष्वाकु के एक पुत्र जिनसे मिथिला का राजवंश चला माना गया है। इनका स्थान मनुष्य की पलकों पर कहा जाता है।
Discription with Examples: उ.- पलक वोट निमि पर अनखाती यह दुख कहा समाइ – ३४४४।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमि

पुं.

आँख का झपकना, निमेष।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमित

पुं.

के लिए, हेतु, कारण।
Discription with Examples: उ.- अस्व-निमित उत्तर दिसि कैं पथ गमन धनंजय कीन्हौं – १-२९।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. निमित्त]

निमित्त

पुं.

हेतु, लिए, वास्ते, कारण।
Discription with Examples: उ.- (क) मेरौ बचन मानि तुम लेहु। सिव-निमित्त आहुति जनि देहु – ४-५। (ख) वाहि निमित्त सकल तीर्थ स्नान करि पाप जो भयो सो सब नसाई – १० उ. ५८।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमित्तक

जनित, सहेतुक।
Category: वि.
Etamology: [सं.]

निमिराज

पुं.

निमिवंशी राजा जनक।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमिष

पुं.

आँख मिचना या झपकना, निमेष।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमिष

पुं.

क्षण भर का समय, पलक मारने भर का समय।
Discription with Examples: उ.- (क) सूरदास प्रभु आपु बाहुबल कियौ निमिष मैं कीर – ९-१५८। (ख) सूर हरि की निरखि सोभा, निमिख तजत न मात – १०-१००।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमिषहूँ

पुं.

पल भर भी, क्षण मात्र को भी।
Discription with Examples: उ.- बिमुख भए अकृपा न निमिषहूँ, फिर चितयौं तौ तैंसैं – १-८।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. निमिष + हूँ (प्रत्य.)]

निमिषित

मिचा या मुँदा हुआ।
Category: वि.
Etamology: [सं.]

निमिषौ

पुं.

पल भर को भी।
Discription with Examples: उ.- स्वाद पर्यौ निमिषौ नाहिं त्यागत ताही माँझ समाने – पृ. ३२८ (७२)।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. निमिष]

निमीलन

पुं.

पलक मारना, निमेष।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमीलिका

स्त्री.

आँख की झपक।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमीलित

ढका हुआ।
Category: वि.
Etamology: [सं.]

निमीलित

मृत।
Category: वि.
Etamology: [सं.]

निमुहाँ

कम बोलनेवाला।
Category: वि.
Etamology: [हिं. नि + मुँह]

निमेक, निमेख, निमेष

पुं.

पलक का गिरना, आँख का झपकना।
Discription with Examples: उ.- (क) सूर प्रभु की निरखि सोभा तजे नैन निमेष – ६३५। (ख) सूर निरखि नारायन इकटक भूले नैन निमेक – पृ. ३४७ (५१)। (ग) मनहुँ तुम्हारे दरसन कारन भूले नैन निमेष – २५६१।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. निमेष]

निमेक, निमेख, निमेष

पुं.

पलक झपकने भर का समय।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं. निमेष]

निमेषक

पुं.

पलक।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

निमेषक

पुं.

जुगनूँ।
Category: संज्ञा
Etamology: [सं.]

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App